सुनील गावस्कर ने वांडरर्स में विराट कोहली के पहले बल्लेबाज़ी करने के फैसले की आलोचना की

Reuters

छह मैचों की वनडे सीरीज़ में, पहले तीन मैचों में निराशा हाथ लगने के बाद दक्षिण अफ्रीकी टीम को  शनिवार को वांडरर्स में चौथे मैच में मिली जीत के बाद राहत की साँस मिली होगी |  

हालांकि भारतीय क्रिकेट के महानतम खिलाड़ी सुनील गावस्कर ने वांडरर्स में पहले बल्लेबाजी करने के विराट कोहली के फैसले की आलोचना की हैं | गावस्कर ने पहले लेग स्पिनर युजवेन्द्र चहल नो बॉल इशारा करते हुए फिर मैन इन फॉर्म विराट कोहली पर अपना निशाना साधा | उन्होंने कप्तान द्वारा की गई गलतियों पर प्रकाश डालते हुए, श्रेयस अय्यर के कैच छोड़ने और अन्य प्राथमिक कारणों का खुलासा किया हैं |

टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार गावस्कर ने कहा हैं कि, "दो मौको पर मिलर ने विशेष रूप से भाग्य का आनंद उठाया होगा, पहला तो जब उन्होंने उनका कैच छोड़ा और दूसरा उन्होंने नो-बाल देकर उनका एक विकेट गवाया | डेविड मिलर जो कि दोनों ही मौकों पर भाग्यशाली रहे  | हेनरिक क्लासेन, जो कि केवल अपना दूसरा खेल ही खेल रहे थे, ने भी अपने मोके का फायदा उठाते हुए, स्पिनरों को निराश करने में सफल रहे |"

टॉस पर बात करते हुए, जो कि भारतीय कप्तान ने जीता था, पर गावस्कर ने कहा कि कोहली के पहले बल्लेबाजी के फैसले को सुनने के बाद वह आश्चर्य थे, क्योकि विराट जानते थे कि बारिश से प्रभावित खेल मुकाबले के दौरान बदल सकता हैं | 

पूर्व कप्तान ने कहा कि, "भारत के पहले बल्लेबाजी करने के फैसले पर पहले से ही सवाल उठाये जा रहे थे, खासकर जब उन्हें पता चल गया था कि खेल के दौरान बारिश आने की संभावना है, हालांकि जिस तरह से कोहली और धवन दक्षिण अफ्रीका के आक्रमण के साथ खेल रहे थे, उससे कोई फर्क नहीं पड़ा | जैसा कि सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि, डी / एल पद्धति हमेशा लक्ष्य का पीछा करने वाली हुए टीम के पक्ष में होती है और ऐसा ही उस मैच में भी हुआ |"

हालांकि गावस्कर ने भारतीय गेंदबाजी रेखा की जमकर प्रशंसा की हैं जिसमे उन्होंने रनो की रक्षा करने के लिए आक्रामक गेंदबाज़ी की | गावस्कर ने कहा कि, "फिर भी जिस तरह से भारतीय गेंदबाज़ो ने अपने स्कोर की रक्षा करनी शुरू की,ऐसा लग रहा था कि वे एक और मैच जीत जायेगे | एबी डिविलियर्स, जिन्हे सिर्फ दक्षिण अफ़्रीका के स्थिर स्कोर को थोड़ा सा धक्का देने की जरुरत थी, और फिर चहल की नो बॉल ने दक्षिण अफ्रीका को एक और मौका दे दिया, जो कि उन्हें पहले नहीं मिला था |"

साथ ही उन्होंने कहा कि, "'मैं बिल्कुल ईमानदारी से कहूंगा कि मॉडर्न क्रिकेट में जब सारे टेक्नोलॉजी उपलब्ध हैं, तब किसी भी गेंदबाज को नो बॉल नहीं करना चाहिए | जब आप जानते हैं कि लेग साइड में गेंदबाजी करने से वाइड दे दिया जाता हैं, जबकि ऑफसाइड में वाइड गेंदबाजी नहीं करना चाहिए |हां, तेज गेंदबाज कभी ओवरस्टेप हो जाते हैं | इस बात को सभी जानते हैं कि नो बॉल के बाद फ्री हिट होता है | हालांकि, क्योंकि यह 50 ओवरों का क्रिकेट हैं, तो मुझे नहीं लगता कि तेज गेंदबाजों को भी नो बॉलिंग करना चाहिए |"


By Pooja Soni - 13 Feb, 2018

    Share Via