शुभमन गिल के अनुसार वह किसी को भी कॉपी करने नहीं करते हैं कोशिश

 शुभमन गिल | AFP

दो हफ्तों के अंतर ही शुभमन गिल ने विश्व कप जीता है और आईपीएल अनुबंध भी हासिल किया है |

रविवार को हजारे ट्राफी में कर्नाटक के खिलाफ पंजाब की भारी जीत में उन्होंने एक मैच जिताऊ शतक बनाया हैं | स्पोर्ट्स स्टार की रिपोर्ट के अनुसार मैच के बाद शुभमन ने कहा कि, "मेरे लिए विजय हजारे ट्रॉफी में पिछली तीन पारियों को भूलना महत्वपूर्ण था | मैं अच्छी तरह से नहीं खेल रहा था और कुछ ख़राब शॉट्स भी लगाए थे | यहां मुझे यह विश्वास था, कि यदि मैं लगभग 10 ओवरों तक टिका रहता हूं, तो इसके बाद मैं ज्यादा से ज्यादा रन बना सकता हूं | मैं सिर्फ अंत तक बल्लेबाजी करना चाहता था | मेरे दिमाग में एकमात्र बस यही काम था |"

अपनी इस लंबी पारी का निर्माण करने में शुभमन सबसे बड़ी संतुष्टि मिली | यहां तक ​​कि यू -19 विश्वकप में, उन्होंने बल्लेबाजी करते हुए पांच बाद कुल 60 चोक मारे थे और कर्नाटक के खिलाफ पूरे 42 ओवरों तक वह क्रीज पर ही बने हुए थे |

 उन्होंने बताया कि, "यह उस समय की बात हैं जब मैंने उन गुणों को विकसित किया है | अगर मैं स्थिर हूं, तो मैं फैंसी शॉट्स खेलने कि कोशिश नहीं करता हूँ और न ही आउट होता हूँ | विजय हजारे में, सुबह 9 बजे से शुरू होने वाले मैच के साथ, तेज गेंदबाजों को देखना और स्पिनरों को स्कोर करना महत्वपूर्ण है |"

हालांकि सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली को अपना आइडल मानने वाले शुभमन ने जोर देकर कहा कि वह अपनी बल्लेबाजी में किसी को भी कॉपी नहीं करते हैं | उन्होंने कहा कि, "मैं किसी को भी  कॉपी करने की कोशिश नहीं करता हूँ, लेकिन जब मैं कुछ शॉट्स निष्पादित करने की कोशिश करता हूं तो यह कभी-कभी स्वचालित रूप से हो जाता हैं | एक समय में यह आपकी मांसपेशी मेमोरी का हिस्सा बन जाता है, लेकिन मैं इस तरह के शॉट्स का अभ्यास नहीं करता हूं (जैसा की कोहली खेलते हैं) |"

 


By Pooja Soni - 13 Feb, 2018

    Share Via