लगातार व्यस्त कार्यक्रम के चलते बढ़ रहा हैं भारतीय खिलाड़ियों का वर्कलोड

टीम इंडिया | Getty

इन दिनों भारतीय क्रिकेट बोर्ड अपने खिलाड़ियों के वर्कलोड का प्रबंधन करने के बारे में कुछ ज्यादा ही गंभीर हैं| लेकिन अगले कुछ महीनो में यह बोर्ड और खिलाड़ियों दोनों के ही लिए बहुत ही चुनौतीपूण होने वाला हैं| 

भारत को फरवरी 10 के अंत में न्यूज़ीलैण्ड का दौरा करना हैं और उसके बहुत ही जल्द बाद ऑस्ट्रेलिया यहाँ फरवरी 24 से मार्च 13 तक वनडे और T20 सीरीज के लिए भारत का दौरा करेगी, जिसके 9 दिन बाद 23 मार्च से इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत होगी|

आईपीएल के विश्व कप से पहले मुश्किल से मई के मध्य तक समाप्त होने की संभावना हैं, जिसकी शुरुआत 30 मई से इंग्लैंड में होगी| जिसके चलते भारत 5 जून से अपने विश्व कप अभियान की शुरुआत करेगा| जिसके बोर्ड पर यह सवाल खड़े किये जा रहे हैं, इतने व्यस्त कार्यक्रम को देखते हुए बीसीसीआई विश्व कप से पहले अपने खिलाड़ियों के इस वर्कलोड को कैसे प्रबंधित करेगा| 
 
पूर्व भारतीय कोच और भूतपूर्व राष्टीय चयनकर्ता अंशुमान गायकवाड़ का मानना हैं कि खिलाड़ियों को आदर्श रूप से ऑस्ट्रेलियाई दौरे के बाद आराम दिया जाना चाहिए| उनका मानना हैं कि उन्हें बड़े कार्यक्रम से पहले थोड़ा समय दिया जाना चाहिए|
 
स्पोर्टस्टार की रिपोर्ट के अनुसार गायकवाड़ ने कहा हैं कि, "खिलाड़ियों को ब्रेक दिया जाना चाहिए क्योकि ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर खिलाड़ियों पर बहुत अधिक दवाब रहा हैं| उसके बाद ऑस्ट्रेलिया को भारत आना हैं और यहाँ भी सीरीज के लिए दवाब होगा| यहाँ आसान नहीं होने वाला हैं| यह बहुत ही व्यस्त कार्यक्रम हैं|" 
 
"मुझे नहीं पता कि क्यों ऑस्ट्रेलिया दोबारा यहाँ आ रहा हैं? हम उनके खिलाफ सीरीज खेल चुके हैं| इसके वर्कलोड का हिस्सा बहुत ही महत्वपूर्ण हैं| यह यह नहीं भूलना चाहिए कि हमे बड़े टूर्नामेंट (विश्व कप) के लिए तैयार होना हैं|"
 
पूर्व भारतीय किकेटर का मानना हैं कि यहाँ यहाँ दो स्कूल हैं| जिसमे से एक का मानना हैं कि खिलाड़ियों को बिना ब्रेक लिए लगातार खेलना चाहिए| वही दूसरे का मानना हैं कि उन्हें ब्रेक दिया जाना चाहिए| गायकवाड़ ने कहा हैं कि, "इन दिनों टीमें लगातार खेल रही हैं| कौन आराम चाहता हैं? सीरीज महत्वपूर्ण होने जा रही हैं, इसलिए कोई भी आराम नहीं करना चाहता हैं| देखा जाये तो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की घरेलु सीरीज को नज़रअंदाज़ किया जाना चाहिए| यह 15-20 दिनों का मामला हैं और इन दिनों में खिलाड़ियों को आराम दिया जाना चाहिए|"

पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन भी का यही मानना हैं कि बोर्ड को आगामी कार्यकम से पहले थोड़ा विचार करना चाहिए| अज़हरुद्दीन ने कहा हैं कि, "पहले बोर्ड को इसके बारे में सोचना चाहिए, लेकिन अब किसी भी बदलाव के लिए बहुत देर हो गई हैं| हम विश्व कप के लिए जा रहे हैं, कि किसी अन्य टूर्नामेंट के लिए| इसलिए वरिष्ठ खिलाड़ियों को पूरी तरह से आराम दिया जाना चाहिए| यह जरुरी हैं कि विश्व कप से पहले खिलाड़ी ताज़ा और फिट हो|"

पूर्व भारतीय चयनकर्ता संजय जगदाले का भी यही मानना हैं कि, "यहाँ विश्व कप का साल हैं और इंग्लैंड में स्ट्रिप्स यहाँ से बहुत ही अलग होगी| इसलिए यहाँ एक बड़ी चुनौती होगी|"


By Pooja Soni - 09 Jan, 2019

    Share Via