कपिल देव सहित इन दिग्गज खिलाड़ियों का महिला कोच की चयन समिति में शामिल होने की अटकले

कपिल देव | Getty

दिग्गज भारतीय क्रिकेटर कपिल देव को भारत के नए महिला क्रिकेट कोच का चुनाव करने वाली समिति में शामिल किया जा सकता हैं, क्योंकि संभावना जताई जा रही है कि बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) विभिन्न कारणों से शायद इस प्रक्रिया को हिस्सा नहीं बन पायेगी|

रमेश पोवार का कार्यकाल 30 नवंबर को विवादास्पद हालात में ख़त्म होने के बाद से महिला टीम के कोच का पद छोड़ना पड़ा और संभावित उम्मीदवारों के आवेदन करने की अंतिम तारीख 15 दिसंबर राखी गई हैं|

नियमों के मुताबिक इस पद के लिए साक्षात्कार का अधिकार सीएसी के पास है, लेकिन महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली की मौजूदगी वाली समिति पूर्व प्रतिबद्धताओं की वजह से शायद इस प्रक्रिया का हिस्सा नहीं  बन पायेगी 

बीसीसीआई के एक सूत्र ने पीटीआई को बताया हैं कि, ‘‘सचिन, लक्ष्मण और सौरव से पहले पूछा जाएगा और एक बार वे लिखित में देंगे कि उनकी इसमें रुचि है, इसके बाद ही वे नए कोच का फैसला करेंगे|"

हालांकि इस तरह की अटकलें भी जताई जा रही हैं कि सीएसी इससे इनकार कर सकते है जैसा कि उन्होंने जूनियर राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के चयन के लिए किया था जिसके बाद नई समिति नियुक्त कि गई थी| सीएसी के सदस्य पूर्व प्रतिबद्धताओं का हवाला देते हुए जूनियर चयनकर्ताओं की चयन प्रक्रिया से पीछे हट गए थे|

साथ ही तेंदुलकर ने आयु वर्ग के क्रिकेट में अपने बेटे अर्जुन के सक्रिय करियर के कारण हितों के टकराव का भी हवाला दिया था| अधिकारी ने बताया हैं कि, ‘‘बोर्ड प्रतिष्ठित नामों पर ध्यान दे रहा है और फिलहाल हमारा ध्यान पांच नामों पर है जो उनकी उपलब्धता पर निर्भर ही करेगा| साथ ही हमने ये भी देखा है कि हितों का टकराव है या नहीं|"

उन्होंने बताया हैं कि, ‘‘सुनील गावस्कर, कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़, शुभांगी कुलकर्णी और शांता रंगास्वामी जैसे कुछ नाम हैं, जिनसे बोर्ड संपर्क कर सकता है और उनकी उपलब्धता को देखते हुए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया जायेगा|"

इनमें से शायद गावस्कर अपनी मीडिया प्रतिबद्धताओं कि वजह से समिति का हिस्सा न बनें| अधिकारी ने बताया कि, ‘‘गावस्कर एक बड़ा नाम है, लेकिन उनकी इतनी सारी मीडिया प्रतिबद्धताएं हैं| हालांकि जैसा कि गावस्कर के लेखों से पता चलता है कि वह महिला क्रिकेट पर करीबी नजर रखते हैं और कपिल भी|"

उन्होंने कहा हैं कि, ‘‘अंशुमन और शुभांगी भारतीय क्रिकेट कि दुनिया में सम्मानित नाम हैं और स्वीकार्य नाम भी हैं|" बीसीसीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने महिला कोच विवाद से निपटने के लिए प्रशासकों की समिति के तरीके की भी आलोचना की थी और कहा था कि अगर सीएसी के सदस्य पिछले साल विराट कोहली-अनिल कुंबले विवाद में अपनी अनदेखी के बाद चयन प्रक्रिया का हिस्सा बनने से मना करते हैं तो इससे बहियत हैरानी नहीं होगी|


By Pooja Soni - 05 Dec, 2018

    Share Via