18 साल बाद वापसी कर रहा बिहार क्रिकेट संघ एक बार फिर से फसा विवादों में

 बिहार क्रिकेट | Getty

18 साल बाद वापसी कर रहा बिहार क्रिकेट संघ सीधे विवादों में फँस गया हैं, जिसके चलते राज्य निकाय विजय हजारे ट्रॉफी के लिए U23 चयनकर्ता का खिलाडी के तौर पर वरिष्ठ टीम में चयन कर रहे हैं|

हालांकि वरिष्ठ टीम के संबंध में हितो के संघर्ष के कई आरोप हैं, जिसका नेतृत्व में भारतीय  स्पिनर प्रग्यान ओझा करेंगे, में आशीष सिन्हा के चयन से बहुत से लोगो कि कुछ भौहें उठ गई हैं| विधायक (पटना सेंट्रल) अरुण कुमार सिन्हा के बेटे 28 वर्षीय आशीष ने साल 2010 में राजस्थान के खिलाफ झारखंड के लिए एक रणजी ट्रॉफी मैच खेला था और दोनों पारी में सिर्फ 16 और 12 रन बनाये थे|

जब आशीष से संपर्क किया गया तो उन्होंने स्वीकार किया हैं कि वह वास्तव में यू -23 चयन के कर्तव्यों की जिम्मेदारी निभा रहे थे और अब विजय हजारे ट्रॉफी में खेलने के लिए तैयार हो रहे हैं|
 
पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार आशीष ने कहा हैं कि, "हाँ, मुझे चयनकर्ता बनाया गया था, लेकिन अब मैंने ये पद छोड़ दिया है| इसके अलावा मैं एक संक्षिप्त अवधि के लिए चयनकर्ता था और कोई आधिकारिक नियुक्ति पत्र नहीं हैं| मैं बीसीए के अनुरोध पर एक चयनकर्ता बन गया था|"

आरोपों के बारे में पूछे जाने पर कि राज्य की वरिष्ठ टीम में उनका चयन उनके पिता के प्रभाव के कारण हुआ, जिसे आशीष ने जोरदार तरीके से ख़ारिज कर दिया| आशीष ने कहा हैं कि, "मैं आपको बताता हूं कि जब मैंने झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी खेला था, तब भी मेरे पिता एक विधायक थे| तो यह कैसे मायने रखता है| मैं अभी भी सक्रिय क्लब क्रिकेट खेल रहा हूँ|जाहिर है कि बिहार घरेलू क्रिकेट में वापस आ रहा है, मैं वरिष्ठ टीम के लिए खेलना चाहता था| हमें सभी को गर्व होना चाहिए कि बिहार फिर से खिलाड़ियों को खराब करने की कोशिश करने के बजाए रणजी ट्रॉफी खेलेंगे|"

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष गोपाल बोहरा ने भी आशीष के चयन का बचाव करते हुए, भ्रष्टाचार और भक्तिवाद के आरोपों को कम किया हैं|
 
बोहरा ने कहा हैं कि, "यह एक अस्थायी चयन समिति थी और आशीष इसका एक हिस्सा था| वह एक अच्छा क्रिकेटर है| साथ ही जब हम लगभग 18 वर्षों के बाद रणजी ट्रॉफी में वापसी रहे हैं, तो हमें अपने कप्तान प्रग्यान ओझा के अलावा कुछ अनुभव की जरूरत है| आशीष को रणजी ट्रॉफी (1 मैच) खेलने का अनुभव है और वह एक वरिष्ठ खिलाड़ी है, इसलिए उन्हें चुना गया हैं|"

उन्होंने आगे कहा हैं कि, "और एक राजनेता के बेटे होने के बारे में बात करते हुए, ये सब आधारहीन आरोप हैं| हम जानते हैं कि सभी आयु वर्ग और वरिष्ठ टीमों के लिए हजारों उम्मीदवार हैं, लेकिन केवल 15 ही खिलाड़ी खेल सकते हैं| बहुत से लोग दिल टूटने की पीड़ा को महसूस कर सकते हैं और अनावश्यक आरोप भी लगा सकते हैं|"
 


By Pooja Soni - 14 Sep, 2018

    Share Via