4 भारतीय दिग्गज़ खिलाड़ी जिनकी अब टीम में वापसी की नहीं हैं उम्मीद

Pic Sources| Twitter

भारत में क्रिकेट को एक धर्म माना जाता है| यहा क्रिकेटरों को भगवान् की तरह पूजा जाता है| भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए खिलाड़ियों को कई सारे पड़ाव से गुजरना पड़ता है| 1 अरब से अधिक की जनसंख्या वाले इस देश में भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए लाखो युवा कड़ी मेहनत करते है | लेकिन टीम में जगह सिर्फ 15 ही बना पाते है|

वर्तमान की भारतीय टीम शानदार फॉर्म में है और टेस्ट क्रिकेट में टॉप पर काबिज है| 2019 विश्व कप को अब महज एक साल बचा है और टीम मैनजमेंट युवा चेहरों के प्रदर्शन से काफी खुश दिख रहा है|

फिलहाल भारतीय टीम के कई महान खिलाड़ी टीम से बाहर है और शायद टीम मैनेजमेंट इन महान खिलाड़ियों को आने वाले विश्व कप में भी मौका न दे | इन खिलाड़ियों में ये चार अहम दिग्गज़ खिलाड़ियों है जिन्हें आने वाले विश्व कप के लिए टीम मैनजेमेंट बाहर बैठाने का फैसला ले सकता है|

1. युवराज सिंह

युवराज सिंह | Getty

युवराज सिंह को किसी तरह के परिचय की जरुरत नहीं है | युवराज सिंह वर्ष 2000 से ही भारतीय टीम का अभिन्न अंग रहे है| वनडे से लेकर टी-20 तक अपना जलवा बिखेरने वाले युवराज सिंह ने जहा टी-20 में 12 गेंदों में 50 रन जड़कर रिकॉर्ड बनाया, वही 2011 विश्व कप में मैंन ऑफ़ द टूर्नामेंट में रह चुके है| अपने करियर के दौरान कई सारे उतार-चढ़ाव देखे | कैंसर से ग्रसित होने के बाद युवराज ने धमाकेदार वापसी की और खुद को साबित किया|

36 वर्षीय इस बल्लेबाज़ को पिछले वर्ष हुए यो-यो टेस्ट में फेल पाया गया था और उन्हें श्रीलंका के दौरे से पहले टीम में जगह नहीं दी गयी थी| हाल ही में संपन्न हुए आईपीएल में युवराज का जादू नहीं चल पाया था और वह पंजाब की और से खेलते हुए 8 मैचों में महज 65 रन ही बना पाए थे| भारतीय टीम में फिलहाल कई युवा खिलाड़ी बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे है और उन सबके प्रदर्शन को देखते हुए टीम में युवराज सिंह की जगह नहीं बनती और अब शायद ही वह टीम में वापसी कर पाए|


2. हरभजन सिंह

हरभजन सिंह | Getty

1998 से टीम इंडिया में खेल रहे पंजाब के फिरकी गेंदबाज़ हरभजन सिंह लगभग एक दशक तक ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी में अपना दबदबा रखा था| क्रिकेट इतिहास में महान ऑफ स्पिनर गेंदबाज़ों में से एक हरभजन सिंह पहले ऐसे भारतीय गेंदबाज़ थे जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में हैट्रिक ली |

हरभजन सिंह का करियर उनके शुरूआती साली में काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा| उनके बोलिंग एक्शन को लेकर आइसीसी ने सवाल खड़े किये थे, लेकिन इन सब घटनाओं के बाद भज्जी ने कभी हार नहीं मानी और एक योधा की तरह वापसी कर शानदार प्रदर्शन किया|

भारतीय टीम में रहते हुए हरभजन सिंह ने अपना आखिरी मैच 2016 मार्च में खेला था| अब कुलदीप यादव् और युजूवेंद्र चहल के रहते हुए 37 वर्षीय भज्जी का फिर से टीम में वापसी करना मुमकिन सा लगता है|


3. गौतम गंभीर

गौतम गंभीर | Getty

भारतीय टीम के भरोसेमंद सलामी बल्लेबाज़ों में से एक गौतम गंभीर भी अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर पहुँच चुके है| 2007 विश्व कप और 2011 विश्व कप की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले गौतम गंभीर ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों में अपने आप को साबित किया है| आईपीएल में इन्होने कोलकाता नाईटराइडर्स की कप्तानी करते हुए दो बार खिताब पर कब्ज़ा जमाया है|

गंभीर भारतीय टेस्ट टीम से 2012 से लेकर 2016 तक बाहर बैठे रहे और उन्हें 2016 में न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ मौका दिया गया| इस मौके को गंभीर भुनाने में कामयाब नहीं हो पाए थे| फिलहाल भारत के पास रोहित शर्मा और शिखर धवन जैसे शानदार सलामी बल्लेबाज़ मौजूद है, ऐसे में गौतम गंभीर की विश्व कप के लिए टीम में वापसी की उम्मीदे कम ही नज़र आती है|


4. इरफ़ान पठान

इरफ़ान पठान | Getty

भारतीय टीम में बतौर आल-राउंडर जगह बनाने वाले इरफ़ान पठान अपना आखिरी वनडे अंतराष्ट्रीय मैच 2013 में भारतीय टीम की ओर से खेले थे| 2003 में भारतीय टीम में जगह बनाने वाले इरफ़ान पठान ने अपनी शानदार गेंदबाजी से दुनिया भर के तेज़ गेंदबाजों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया|

2007 टी-20 विश्व कप के फाइनल मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले इरफ़ान पठान 2013 से भारतीय टीम से बाहर है और टीम में जगह बनाने की कोशिश कर रहे है| लेकिन भारतीय तेज़ गेंदबाजी में नए चमकते सितारों के सामने इरफ़ान पठान का चाँद कही धूमिल हो गया | इसके पिछे चोटें और फॉर्म का खोना दो बड़े कारण हो सकते हैं |

फिलहाल टीम के पास भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव और हार्दिक पांड्या जैसे तेज़ गेंदबाज़ है जिनके पास स्विंग के साथ-साथ तेज़ी भी है| ऐसे में इरफ़ान पठान आने वाले विश्व कप के लिए टीम में फिट नहीं बैठते है|


By Akshit vedyan - 11 Jun, 2018

    Share Via