सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल ने जीत का श्रेय निचले क्रम की बल्लेबाज़ी को दिया

Getty

बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल ने स्वीकार किया हैं कि निचले क्रम के बल्लेबाजों ने मंगलवार (23 जनवरी) को ढाका में त्रिकोणीय सीरीज में खेले गए मैच में जिम्बाब्वे को 91 रनों से हराने में मदद की |

शेर-ए बांग्ला नेशनल स्टेडियम में खेले गए मैच में टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला करने वाले बांग्लादेश ने 9 विकेट के नुकसान पर 216 रनों का स्कोर कड़ा किया | इस लक्ष्य का पीछा करते हुए जिम्बाब्वे की टीम 125 रनों पर ही सिमट गई |

यह समझा जा रहा हैं कि टीम प्रबंधन ने अपने शुरुआती शिविर के दौरान निचले क्रम के बल्लेबाजों की बल्लेबाजी पर काफी जोर दिया है, जिससे कि वे ज़िम्बाब्वे के खिलाफ एक शर्मनाक हार से बच गए |

क्रिक बज की रिपोर्ट के अनुसार, "मैं एक बार फिर से टीम प्रबंधन को श्रेय देना चाहता हूँ, क्योंकि पिछले महीने और डेढ़ साल में निचले क्रम के बल्लेबाजों को बल्लेबाजी करने का समय दिया गया था | ये बात सिर्फ उन लोगो को ही समझ आएगी, जिन्होंने इसे अच्छी तरह देखा होगा  | उन्होंने आज बहुत बल्लेबाजी की थी और नम्बर 9, 10 और 11 के बल्लेबाज़ों ने 50 रन बनाये | इसलिए आज के खेल में अंतर बना |"

"मुझे पता था कि 200 से ज्यादा बनाना थोड़ा मुश्किल होगा, क्योंकि जैसा कि मैंने कहा था की बल्लेबाज़ी करने के लिए विकेट थोड़ी मुश्किल थी, खासकर स्पिनरों के खिलाफ और फिर तेज गेंदबाजों के लिए गति को तेज़ करना |"

साथ ही तमीम अपने शतक को पूरा न कर पाने पर भी निराशा व्यक्त की | उन्होंने कहा कि, "शायद आक्रमण करने के लिए ये समय ठीक नहीं था | एक लेग स्पिनर गेंदबाजी कर रहा था और मैं एक बाएं हाथ का गेंदबाज हूं, इसलिए मेरे लिए उनके लिए सफल होने की संभावना अधिक थी | मैं उन्हें कुछ समय के लिए अपना निशाना बना रहा था, लेकिन हम नियमित रूप से विकेट खो रहे थे, जैसे मुशफिकुर रहीम और रियाद भाई महमदुल्लाह |" 

"मैं उन ओवरों को निशाना बना रहा था, मुझे लगा था कि अगर मैं उन्हें एक या दो सीमाओं के लिए मार सकता हूं, तो यह अच्छा होगा | यहां तक ​​कि अगर मुशफ्फिक कि जगह मैं वहां होता, तो यह बेहतर होता, क्योकि हमारे पास पांच या छह बल्लेबाज होंगे | इसलिए यदि मैंने पांच ओवरों के लिए साझेदारी करने की कोशिश की और फिर उस शॉट को मारने की कोशिश की, तो यह बेहतर होगा |"

सीनियर बल्लेबाज़ ने कहा कि, "जी हां, निश्चित रूप से यह अच्छा होता, यदि मैंने एक शतक बनाया होता तो | पिछले दो मैचों में, मैं इसके बहुत करीब आ गया था और यह हमेशा निराशाजनक था, आप जानते हैं कि मुझे आज भी एक और मौका मिला था | मुझे कुछ भी खास करने की जरूरत नहीं है, अगर मैं छह-सात ओवर में और बल्लेबाजी करता, तो मैं निश्चित रूप से शतक बना सकता था  |"


By Pooja Soni - 24 Jan, 2018

    Share Via